Hindi Songs

Hindi Songs's Lyrics

Apni Kaho Kuchh Meri Suno / अपनी कहो कुछ मेरी सुनो

अपनी कहो कुछ मेरी सुनो 
क्या दिल का लगाना भूल गए

रोने की आदत ऐसी पड़ी
हंसने का तराना भूल गए

काली रातें बीत गईं 
फिर चाँदनी रातें आई हैं
दिल में नहीं उजियाला मेरे 
ग़म की घटाएँ छाई हैं
प्रीत के वादे याद करो
क्या प्रीत निभाना भूल गए, क्या भूल गए

भुला हुआ है राह मुसाफ़िर
बिछड़ा हुआ है मंज़िल से
खोए हुए रस्ते का पता
तुम पूछ लो खुद अपने दिल से 
चलते चलते इतना थके
मंज़िल का ठिकाना भूल गए, हाँ भूल गए

नज़दीक बढ़ो, नज़दीक बढ़ो
ये मौसम नहीं फिर आने का 
नज़दीक शम्मा के जाने से 
क्या हाल हुआ परवाने का 
मिटने का फ़साना याद रहा 
जलने का फ़साना भूल गए, क्या भूल गए
#VShantaram #Sandhya #RaagPilu


Apni Kaho Kuchh Meri Suno Lyrics

Apani kaho kuchh meri suno 
Kya dil ka lagaana bhul ge

Rone ki adat aisi padi
Hnsane ka taraana bhul ge

Kaali raaten bit gin 
Fir chaandani raaten ai hain
Dil men nahin ujiyaala mere 
Gam ki ghataaen chhaai hain
Prit ke waade yaad karo
Kya prit nibhaana bhul ge, kya bhul ge

Bhula hua hai raah musaafir
Bichhada hua hai mnzil se
Khoe hue raste ka pata
Tum puchh lo khud apane dil se 
Chalate chalate itana thake
Mnzil ka thhikaana bhul ge, haan bhul ge

Nazadik baढ़o, nazadik baढ़o
Ye mausam nahin fir ane ka 
Nazadik shamma ke jaane se 
Kya haal hua parawaane ka 
Mitane ka fasaana yaad raha 
Jalane ka fasaana bhul ge, kya bhul ge

  

Additional Information

गीतकार : नूर लखनवी, गायक : लता मंगेशकर - तलत मेहमूद, संगीतकार : सी. रामचंद्र, चित्रपट : परछाईं (१९५२) / Lyricist : Noor Lakhnavi, Singer : Lata Mangeshkar - Talat Mehmood, Music Director : C. Ramchandra, Movie : Parchhain (1952)

Hindi Songs Lyrics Submitted By

Manjusha Sawant

March 23 2020

You may also like these pages:

geetmanjusha.com © 1999-2020 Manjusha Umesh | Privacy | Community Guidelines