Hindi Songs

Hindi Songs's Lyrics

Bachchon Tum Taqdeer Ho / बच्चों तुम तक़दीर हो कल के हिंदुस्तान की

बच्चों तुम तक़दीर हो कल के हिंदुस्तान की
बापू के वरदान की नेहरू के अरमान की

आज के टूटे खंडहरों पर तुम कल का देश बसाओगे
जो हम लोगों से न हुआ वो तुम करके दिखलाओगे
तुम नन्ही बुनियादें हो दुनिया के नए विधान की

दीन धर्म के नाम पे कोई बीज फूट का बोए ना
जो सदियों के बाद मिली है वो आज़ादी खोए ना 
हर मजहब से ऊँची है क़ीमत इन्सानी जान की

फिर कोई जयचन्द न उभरे फिर कोई जाफ़र न उठे 
ग़ैरों का दिल खुश करने को अपनों पर ख़ंजर न उठे
धन दौलत के लालच में तौहीन न हो ईमान की

नारी को इस देश ने देवी कहकर दासी जाना है
जिसको कुछ अधिकार न हो वो घर की रानी माना है
तुम ऐसा आदर मत लेना आड़ हो जो अपमान की 

रह न सके अब इस दुनिया में युग सरमायादारी का 
तुमको झंडा लहराना है मेहनत की सरदारी का 
तुम चाहो तो बदल के रख दो क़िस्मत हर इन्सान की


Bachchon Tum Taqdeer Ho Lyrics

Bachchon tum taqadir ho kal ke hindustaan ki
Baapu ke waradaan ki neharu ke aramaan ki

Aj ke tute khndaharon par tum kal ka desh basaaoge
Jo ham logon se n hua wo tum karake dikhalaaoge
Tum nanhi buniyaaden ho duniya ke ne widhaan ki

Din dharm ke naam pe koi bij fut ka boe na
Jo sadiyon ke baad mili hai wo azaadi khoe na 
Har majahab se unchi hai qimat insaani jaan ki

Fir koi jayachand n ubhare fir koi jaafar n uthhe 
Gairon ka dil khush karane ko apanon par khnjar n uthhe
Dhan daulat ke laalach men tauhin n ho imaan ki

Naari ko is desh ne dewi kahakar daasi jaana hai
Jisako kuchh adhikaar n ho wo ghar ki raani maana hai
Tum aisa adar mat lena ad ho jo apamaan ki 

Rah n sake ab is duniya men yug saramaayaadaari ka 
Tumako jhnda laharaana hai mehanat ki saradaari ka 
Tum chaaho to badal ke rakh do qismat har insaan ki

Additional Information

गीतकार : साहिर लुधियानवी, गायक : आशा भोसले - मोहम्मद रफी, संगीतकार : एन. दत्ता, चित्रपट : दीदी (१९५९) / Lyricist : Sahir Ludhianvi, Singer : Asha Bhosle - Mohammad Rafi, Music Director : N.Dutta, Movie : Didi (1959)

Hindi Songs Lyrics Submitted By

Manjusha Sawant

October 01 2019

You may also like these pages:

geetmanjusha.com © 1999-2020 Manjusha Umesh | Privacy | Community Guidelines