Hindi Songs

Hindi Songs's Lyrics

Machal Ke Jab Bhi Aankhon Se Chhalak / मचल के जब भी आँखों से छलक

मचल के जब भी आँखों से छलक जाते हैं दो आँसू 
सुना है आबोशारों को बड़ी तकलीफ़ होती है

खुदारा अब तो बुझ जाने दो इस जलती हुई लौ को 
चरागों से मजारों को बड़ी तकलीफ़ होती है
 
कहू क्या वो बड़ी मासूमियत से पूछ बैठे हैं 
क्या सचमुच दिल के मारों को बड़ी तकलीफ़ होती है

तुम्हारा क्या तुम्हें तो राह दे देते हैं काँटे भी 
मगर हम खांकसारों को बड़ी तकलीफ़ होती है


Machal Ke Jab Bhi Aankhon Se Chhalak Lyrics

Machal ke jab bhi ankhon se chhalak jaate hain do ansu 
Suna hai aboshaaron ko badi takalif hoti hai

Khudaara ab to bujh jaane do is jalati hui lau ko 
Charaagon se majaaron ko badi takalif hoti hai
 
Kahu kya wo badi maasumiyat se puchh baithhe hain 
Kya sachamuch dil ke maaron ko badi takalif hoti hai

Tumhaara kya tumhen to raah de dete hain kaante bhi 
Magar ham khaankasaaron ko badi takalif hoti hai

Additional Information

गीतकार : गुलज़ार, गायक : भूपेंद्र , संगीतकार : कनू रॉय, चित्रपट : गृहप्रवेश (१९७९) / Lyricist : Gulzar, Singer : Bhupendra, Music Director : Kanu Roy, Movie : Griha Pravesh (1979)

Share this song

Hindi Songs Lyrics Submitted By

Manjusha Sawant

March 13 2013

You may also like these pages:

geetmanjusha.com © 1999-2019 Manjusha Umesh | Privacy | Community Guidelines