Hindi Songs

Hindi Songs's Lyrics

Dukh Sukh Tha Ek Sabka / दुःख सुख था एक सबका

दुःख सुख था एक सबका
अपना हो या बेग़ाना
एक वो भी था ज़माना 
एक ये भी था ज़माना 

दादा हयात थे जब, मिटटी का एक घर था
चोरों का कोई खटका ना डाकुओं का डर था 
खाते थे रूखी सुखी, सोते थे नींद गहरी 
शामें भरी-भरी थी, आबाद थी दोपहरी 
संतोष था दिलों को, माथे पे बल नहीं था 
दिल में कपट नहीं था, आँखों में छल नहीं था
थे लोग भोलेभाले लेकिन थे प्यार वाले
दुनिया से कितनी जल्दी, सब हो गए रवाना 

अबब का वक़्त आया, तालीम घर में आई 
तालीम साथ अपने ताज़ा विचार लाई 
आगे रवायतों से बढ़ने का ध्यान आया 
मिट्टी का घर हटा तो पक्का मकान आया
दफ्तर की नौकरी थी, तनख़्वाह का सहारा
मालिक पे था भरोसा, हो जाता था गुज़ारा 
पैसा अगरचे कम था, फिर भी न कोई ग़म था 
कैसा भर पूरा था अपना गरीब खाना

अब मेरा दौर है ये, कोई नहीं किसी का 
हर आदमी अकेला, हर चेहरा अजनबी सा 
आँसू न मुस्कराहट, जीवन का हाल ऐसा 
अपनी खबर नहीं है, माया का जाल ऐसा 
पैसा है मर्तबा है, इज़्ज़त वक़ार भी है 
नौकर हैं और चाकर, बंगला है कार भी है 
ज़र पास है ज़मीं है, लेकिन सुकूँ नहीं है 
पाने के वास्ते कुछ, क्या क्या पड़ा गवाना 

ऐ आने वाली नस्लों, ऐ आने वाले लोगों 
भोगा है हमने जो कुछ, वो तुम कभी न भोगो 
जो दुःख था साथ अपने तुमसे करीब न हो 
पीड़ा जो हमने झेली तुमको नसीब न हो 
जिस तरह भीड़ में हम ज़िंदा रहे अकेले 
वो ज़िन्दगी की महफ़िल तुमसे न कोई ले ले 
तुम जिस तरफ से गुज़रो मेला हो रौशनी का
रास आए तुमको मौसम इक्कीसवीं सदी का 
हम तो सुकूँ को तरसे, तुमपर सुकून बरसे
आनंद हो दिलों में, जीवन लगे सुहाना

Dukh Sukh Tha Ek Sabka Lyrics

Duhkh sukh tha ek sabaka
Apana ho ya begaana
Ek wo bhi tha zamaana 
Ek ye bhi tha zamaana 

Daada hayaat the jab, mitati ka ek ghar tha
Choron ka koi khataka na daakuon ka dar tha 
Khaate the rukhi sukhi, sote the nind gahari 
Shaamen bhari-bhari thi, abaad thi dopahari 
Sntosh tha dilon ko, maathe pe bal nahin tha 
Dil men kapat nahin tha, ankhon men chhal nahin tha
The log bholebhaale lekin the pyaar waale
Duniya se kitani jaldi, sab ho ge rawaana 

Abab ka waqt aya, taalim ghar men ai 
Taalim saath apane taaza wichaar laai 
Age rawaayaton se baढ़ane ka dhyaan aya 
Mitti ka ghar hata to pakka makaan aya
Daftar ki naukari thi, tanakhwaah ka sahaara
Maalik pe tha bharosa, ho jaata tha guzaara 
Paisa agarache kam tha, fir bhi n koi gam tha 
Kaisa bhar pura tha apana garib khaana

Ab mera daur hai ye, koi nahin kisi ka 
Har adami akela, har chehara ajanabi sa 
Ansu n muskaraahat, jiwan ka haal aisa 
Apani khabar nahin hai, maaya ka jaal aisa 
Paisa hai martaba hai, izzat waqaar bhi hai 
Naukar hain aur chaakar, bngala hai kaar bhi hai 
Zar paas hai zamin hai, lekin sukun nahin hai 
Paane ke waaste kuchh, kya kya pada gawaana 

Ai ane waali naslon, ai ane waale logon 
Bhoga hai hamane jo kuchh, wo tum kabhi n bhogo 
Jo duhkh tha saath apane tumase karib n ho 
Pida jo hamane jheli tumako nasib n ho 
Jis tarah bhid men ham zinda rahe akele 
Wo zindagi ki mahafil tumase n koi le le 
Tum jis taraf se guzaro mela ho raushani ka
Raas ae tumako mausam ikkisawin sadi ka 
Ham to sukun ko tarase, tumapar sukun barase
Annd ho dilon men, jiwan lage suhaana

Additional Information

गीतकार : ज़फर गोरखपुरी, गायक : -, संगीतकार : -, चित्रपट : / Lyricist : , Singer : Pankaj Udhas, Music Director : -, Movie :

Hindi Songs Lyrics Submitted By

Manjusha Sawant

October 22 2019

You may also like these pages:

geetmanjusha.com © 1999-2020 Manjusha Umesh | Privacy | Community Guidelines