Hindi Songs

Hindi Songs's Lyrics

Chirag Dil Ka Jalao / चिराग दिल का जलाओ बहुत अंधेरा है

चिराग दिल का जलाओ बहुत अंधेरा है
कहीं से लौट के आओ बहुत अंधेरा है

कहाँ से लाऊँ वो रंगत गई बहारों की
तुम्हारे साथ गई रोशनी नज़ारों की 
मुझे भी पास बुलाओ बहुत अंधेरा है

सितारों तुमसे अंधेरे कहाँ सम्भलते हैं 
उन्हीं के नक़्श-ए-कदम से चिराग जलते हैं
उन्हीं को ढूँढ़ के लाओ बहुत अंधेरा है
#RajKhosla


Chirag Dil Ka Jalao Lyrics

Chiraag dil ka jalaao bahut andhera hai
Kahin se laut ke ao bahut andhera hai

Kahaan se laaun wo rngat gi bahaaron ki
Tumhaare saath gi roshani nazaaron ki 
Mujhe bhi paas bulaao bahut andhera hai

Sitaaron tumase andhere kahaan sambhalate hain 
Unhin ke naqsh-e-kadam se chiraag jalate hain
Unhin ko dhunढ़ ke laao bahut andhera hai

Additional Information

गीतकार : मजरूह सुलतानपुरी, गायक : मोहम्मद रफी, संगीतकार : मदन मोहन, चित्रपट : चिराग (१९६९) / Lyricist : Majrooh Sultanpuri, Singer : Mohammad Rafi, Music Director : Madan Mohan, Movie : Chirag (1969)

Share this song

Hindi Songs Lyrics Submitted By

Manjusha Sawant

February 02 2019

You may also like these pages:

geetmanjusha.com © 1999-2019 Manjusha Umesh | Privacy | Community Guidelines