Hindi Songs

Hindi Songs's Lyrics

Duniya Mein Kitna Gham Hai (Mohammad Aziz) / दुनिया में कितना ग़म है

दुनिया में कितना ग़म है 
मेरा ग़म कितना कम है 
लोगों का ग़म देखा तो 
मैं अपना ग़म भूल गया

कोई एक हज़ारों में 
शायद ही खुश होता है 
कोई किसी को रोता है 
कोई किसी को रोता है
घर घर में ये मातम है 

इस का रंग-रूप यही 
इसको जीवन कहते हैं
कभी हँसी आ जाती है 
कभी ये आँसू बहते हैं
दुःख सुख का ये संगम है 

सबके दिल में शोले हैं 
सबकी आँख में पानी है
जिसको देखो उसके पास 
एक दुःख भरी कहानी है 
दुखिया सारा आलम है
#RajeshKhanna #SmitaPatil


Duniya Mein Kitna Gham Hai (Mohammad Aziz) Lyrics

Duniya men kitana gam hai 
Mera gam kitana kam hai 
Logon ka gam dekha to 
Main apana gam bhul gaya

Koi ek hazaaron men 
Shaayad hi khush hota hai 
Koi kisi ko rota hai 
Koi kisi ko rota hai
Ghar ghar men ye maatam hai 

Is ka rng-rup yahi 
Isako jiwan kahate hain
Kabhi hnsi a jaati hai 
Kabhi ye ansu bahate hain
Duhkh sukh ka ye sngam hai 

Sabake dil men shole hain 
Sabaki ankh men paani hai
Jisako dekho usake paas 
Ek duhkh bhari kahaani hai 
Dukhiya saara alam hai

 

Additional Information

गीतकार : आनंद बक्षी, गायक : मोहम्मद अज़ीज़, संगीतकार : लक्ष्मीकांत प्यारेलाल, चित्रपट : अमृत (१९८६) / Lyricist : Anand Bakshi, Singer : Mohammad Aziz, Music Director : Laxmikant Pyarelal, Movie : Amrit (1986)

Share this song

Hindi Songs Lyrics Submitted By

Manjusha Sawant

November 27 2018

You may also like these pages:

geetmanjusha.com © 1999-2019 Manjusha Umesh | Privacy | Community Guidelines