Hindi Songs

Hindi Songs's Lyrics

Mareez-E-Mohabbat Unhi Ka Fasana / मरीज़-ए-मोहब्बत उन्हीं का फ़साना

मरीज़-ए-मोहब्बत उन्हीं का फ़साना
सुनाता रहा दम निकलते निकलते
मगर ज़िक्र-ए-शाम-ए-अलम जब के आया 
चिराग-ए-सहर बुझ गया जलते जलते 

इरादा था तर्क-ए-मोहब्बत का लेकिन 
फरेब-ए-तबस्सुम में फिर आ गए हम
अभी खा के ठोकर संभलने न पाए 
कि फिर खाई ठोकर संभलते संभलते 

उन्हें खत में लिखा था दिल मुज़्तरिब है
जवाब उन का आया मोहब्बत ना करते
तुम्हे दिल लगाने को किसने कहा था 
बहल जाएगा दिल बहलते बहलते 

मगर कोई वादा खिलाफ़ी की हद है 
हिसाब अपने दिल में लगाकर तो देखो 
क़यामत का दिन आ गया रफ़्ता रफ़्ता 
मुलाक़ात का दिन बदलते बदलते

वो मेहमाँ रहे भी तो कब तक हमारे 
हुई शमां गुल और ना डूबे सितारे 
'क़मर' इस कदर उनको जल्दी थी घर की 
वो घर चल दिये चाँदनी ढलते ढलते


Mareez-E-Mohabbat Unhi Ka Fasana Lyrics

Mariz-e-mohabbat unhin ka fasaana
Sunaata raha dam nikalate nikalate
Magar zikr-e-shaam-e-alam jab ke aya 
Chiraag-e-sahar bujh gaya jalate jalate 

Iraada tha tark-e-mohabbat ka lekin 
Fareb-e-tabassum men fir a ge ham
Abhi kha ke thhokar snbhalane n paae 
Ki fir khaai thhokar snbhalate snbhalate 

Unhen khat men likha tha dil muztarib hai
Jawaab un ka aya mohabbat na karate
Tumhe dil lagaane ko kisane kaha tha 
Bahal jaaega dil bahalate bahalate 

Magar koi waada khilaafi ki had hai 
Hisaab apane dil men lagaakar to dekho 
Qayaamat ka din a gaya rafta rafta 
Mulaaqaat ka din badalate badalate

Wo mehamaan rahe bhi to kab tak hamaare 
Hui shamaan gul aur na dube sitaare 
'aqamara' is kadar unako jaldi thi ghar ki 
Wo ghar chal diye chaandani dhalate dhalate

Additional Information

गीतकार : क़मर जलालवी , गायक : -, संगीतकार : -, चित्रपट : / Lyricist : Qamar Jalalvi, Singer : -, Music Director : -, Movie :

Share this song

Hindi Songs Lyrics Submitted By

Manjusha Sawant

November 06 2018

You may also like these pages:

geetmanjusha.com © 1999-2019 Manjusha Umesh | Privacy | Community Guidelines