Hindi Songs

Hindi Songs's Lyrics

Ek Hi Khwab Kai Baar / एक ही ख़्वाब कई बार देखा है मैंने

एक ही ख़्वाब कई बार देखा है मैंने 
तूने साड़ी में उरस ली है मेरी चाबियाँ घर की 
और चली आई है बस यूँ ही मेरा हाथ पकड़ कर
एक ही ख़्वाब कई बार देखा है मैंने

मेज़ पर फूल सजाते हुए देखा है कई बार 
और बिस्तर से कई बार जगाया है तुझको
चलते फिरते तेरे क़दमों की वो आहट भी सुनी है
एक ही ख़्वाब कई बार देखा है मैंने

क्यों चिठ्ठी है या कविता ?
अभी तक तो कविता है 

गुनगुनाती हुई निकली है नहा के जब भी 
अपने भीगे हुए बालों से टपकता पानी 
मेरे चेहरे पे छिटक देती है तू टीकू की बच्ची
एक ही ख़्वाब कई बार देखा है मैंने

ताश के पत्तों पे लड़ती है कभी-कभी खेल में मुझसे
और कभी लड़ती भी है ऐसे कि बस खेल रही है मुझसे 
और आगोश में नन्हें को लिए 

और जानती हो टीकू 
जब तुम्हारा ये ख़्वाब देखा था 
अपने बिस्तर पे मैं उस वक़्त पड़ा जाग रहा था
#Dharmendra #Hemamalini #Gulzar


Ek Hi Khwab Kai Baar Lyrics

Ek hi khwaab ki baar dekha hai mainne 
Tune saadi men uras li hai meri chaabiyaan ghar ki 
Aur chali ai hai bas yun hi mera haath pakad kar
Ek hi khwaab ki baar dekha hai mainne

Mez par ful sajaate hue dekha hai ki baar 
Aur bistar se ki baar jagaaya hai tujhako
Chalate firate tere qadamon ki wo ahat bhi suni hai
Ek hi khwaab ki baar dekha hai mainne

Kyon chithhthhi hai ya kawita ?
Abhi tak to kawita hai 

Gunagunaati hui nikali hai naha ke jab bhi 
Apane bhige hue baalon se tapakata paani 
Mere chehare pe chhitak deti hai tu tiku ki bachchi
Ek hi khwaab ki baar dekha hai mainne

Taash ke patton pe ladati hai kabhi-kabhi khel men mujhase
Aur kabhi ladati bhi hai aise ki bas khel rahi hai mujhase 
Aur agosh men nanhen ko lie 

Aur jaanati ho tiku 
Jab tumhaara ye khwaab dekha tha 
Apane bistar pe main us waqt pada jaag raha tha

  

Additional Information

गीतकार : गुलज़ार, गायक : भूपेंद्र, संगीतकार : राहुल देव बर्मन, चित्रपट : किनारा (१९७६) / Lyricist : Gulzar, Singer : Bhupendra, Music Director : Rahul Dev Burman, Movie : Kinara (1976)

Share this song

Hindi Songs Lyrics Submitted By

Manjusha Sawant

September 24 2018

You may also like these pages:

geetmanjusha.com © 1999-2019 Manjusha Umesh | Privacy | Community Guidelines