Hindi Songs

Hindi Songs's Lyrics

Ek Hi Baat Zamane Ki Kitabon Mein Nahin / एक ही बात ज़माने की किताबों में नहीं

एक ही बात ज़माने की किताबों में नहीं 
जो ग़म-ए-दोस्त में नशा है, शराबों में नहीं 

हुस्न की भीख ना मांगेंगे, ना जलवों की कभी
हम फ़क़ीरों से मिलो खुल के हिजाबों में नहीं 

हर जगह फिरते हैं आवारा ख़यालों की तरह  
ये अलग बात है हम आपके ख़्वाबों में नहीं

ना डूबो साग़र-ओ-मीना में ये ग़म ऐ 'फ़ाकिर' 
के मक़ाम इनका दिलों में है शराबों में नहीं


Ek Hi Baat Zamane Ki Kitabon Mein Nahin Lyrics

Ek hi baat zamaane ki kitaabon men nahin 
Jo gam-e-dost men nasha hai, sharaabon men nahin 

Husn ki bhikh na maangenge, na jalawon ki kabhi
Ham faqiron se milo khul ke hijaabon men nahin 

Har jagah firate hain awaara khayaalon ki tarah  
Ye alag baat hai ham apake khwaabon men nahin

Na dubo saagar-o-mina men ye gam ai 'afaakira' 
Ke maqaam inaka dilon men hai sharaabon men nahin

Additional Information

गीतकार : सुदर्शन फ़ाकिर, गायक : मोहम्मद रफी, संगीतकार : ताज अहमद खान, गीतसंग्रह/चित्रपट : / Lyricist : Sudarshan Fakir, Singer : Mohammad Rafi, Music Director : Taj Ahmed Khan, Album/Movie :

Share this song

Hindi Songs Lyrics Submitted By

Manjusha Sawant

April 04 2018

You may also like these pages:

geetmanjusha.com © 1999-2019 Manjusha Umesh | Privacy | Community Guidelines