Hindi Songs

Hindi Songs's Lyrics

Kabhi To Khul Ke Baras / कभी तो खुल के बरस अब्र-ए-मेहरबां की तरह

कभी तो खुल के बरस अब्र-ए-मेहरबां की तरह 
मेरा वजूद है जलते हुए मकाँ की तरह

मैं एक ख़्वाब सही आपकी अमानत हूँ 
मुझे संभाल के रखिएगा जिस्म-ओ-जां की तरह

कभी तो सोच के वो शख़्स किस कदर था बुलंद 
जो बिछ गया तेरे क़दमों में आसमां की तरह 

बुला रहा है मुझे फिर किसी बदन का बसंत 
गुज़र न जाए ये रुत भी कहीं ख़िज़ाँ की तरह


Kabhi To Khul Ke Baras Lyrics

Kabhi to khul ke baras abr-e-meharabaan ki tarah 
Mera wajud hai jalate hue makaan ki tarah

Main ek khwaab sahi apaki amaanat hun 
Mujhe snbhaal ke rakhiega jism-o-jaan ki tarah

Kabhi to soch ke wo shakhs kis kadar tha bulnd 
Jo bichh gaya tere qadamon men asamaan ki tarah 

Bula raha hai mujhe fir kisi badan ka basnt 
Guzar n jaae ye rut bhi kahin khizaan ki tarah

Additional Information

गीतकार : -, गायक : चित्रा सिंग, संगीतकार : जगजित सिंग, गीत संग्रह / चित्रपट :अ साउंड अफेयर (१९८५) / Lyricist : , Singer : Chitra Singh, Music Director : Jagjit Singh, Album/Movie : A Sound Affair (1985)

Share this song

Hindi Songs Lyrics Submitted By

Manjusha Sawant

February 20 2018

You may also like these pages:

geetmanjusha.com © 1999-2019 Manjusha Umesh | Privacy | Community Guidelines