Hindi Songs

Hindi Songs's Lyrics

Aaj Ke Daur Mein Ae Dost / आज के दौर में ऐ दोस्त ये मंज़र क्यों है

आज के दौर में ऐ दोस्त ये मंज़र क्यों है 
ज़ख़्म हर सर पे हर एक हाथ में पत्थर क्यों है 

जब हक़ीक़त है के हर जर्रे में तू रहता है 
फिर ज़मीं पे कहीं मस्जिद कहीं मंदिर क्यों है 

अपना अंजाम तो मालूम है सबको फिर भी
अपनी नजरों में हर इन्सान सिकंदर क्यों है

ज़िन्दगी जीने के क़ाबिल ही नहीं अब फ़ाकिर
वर्ना हर आँख में अश्कों का समंदर क्यों है


Aaj Ke Daur Mein Ae Dost Lyrics

Aj ke daur men ai dost ye mnzar kyon hai 
Zakhm har sar pe har ek haath men patthar kyon hai 

Jab haqiqat hai ke har jarre men tu rahata hai 
Fir zamin pe kahin masjid kahin mndir kyon hai 

Apana anjaam to maalum hai sabako fir bhi
Apani najaron men har insaan sikndar kyon hai

Zindagi jine ke qaabil hi nahin ab faakir
Warna har ankh men ashkon ka samndar kyon hai

Additional Information

गीतकार : सुदर्शन फ़ाकिर, गायक : जगजित सिंग, संगीतकार : जगजित सिंग, गीत संग्रह/चित्रपट : - / Lyricist : Sudarshan Faakir, Singer : Jagjit Singh, Music Director : Jagjit Singh, Album/Movie : Cry for CRY

Share this song

Hindi Songs Lyrics Submitted By

Manjusha Sawant

February 06 2018

You may also like these pages:

geetmanjusha.com © 1999-2019 Manjusha Umesh | Privacy | Community Guidelines