Hindi Songs

Hindi Songs's Lyrics

Samjhi Thi Ki Ye Ghar Mera Hai / समझी थी की ये घर मेरा है

समझी थी की ये घर मेरा है 
मालूम हुआ मेहमान थी मैं 
जिन्हें अपना अपना कहती थी 
उन सबके लिए अन्जान थी मैं 

इस तरह न मुझको ठुकराओ 
एक बार गले से लग जाओ 
मैं अब भी तुम्हारी हूँ लोगों 
रूठों न अगर नादान थी मैं 

तुम शाद रहो आबाद रहो 
अब मैं तुम सब से दूर चली 
परदेस बनी हैं वो गलियां 
जिन गलियों की पहचान थी मैं 


Samjhi Thi Ki Ye Ghar Mera Hai Lyrics

Samajhi thi ki ye ghar mera hai 
Maalum hua mehamaan thi main 
Jinhen apana apana kahati thi 
Un sabake lie anjaan thi main 

Is tarah n mujhako thhukaraao 
Ek baar gale se lag jaao 
Main ab bhi tumhaari hun logon 
Ruthhon n agar naadaan thi main 

Tum shaad raho abaad raho 
Ab main tum sab se dur chali 
Parades bani hain wo galiyaan 
Jin galiyon ki pahachaan thi main 

Additional Information

गीतकार : साहिर लुधियानवी, गायक : आशा भोसले, संगीतकार : रवी, चित्रपट : काजल (१९६५) / Lyricist : Sahir Ludhianvi, Singer : Asha Bhosle, Music Director : Ravi, Movie : Kajal (1965)

Share this song

Hindi Songs Lyrics Submitted By

Manjusha Sawant

October 17 2016

You may also like these pages:

geetmanjusha.com © 1999-2019 Manjusha Umesh | Privacy | Community Guidelines