Hindi Songs

Hindi Songs's Lyrics

Tu Hi Sagar Hai Tu Hi Kinara / तू ही सागर है तू ही किनारा

तू ही सागर है तू ही किनारा 
ढूँढता है तू किसका सहारा 

मन में उलझा कभी तन में उलझा 
तू सदा अपने दामन में उलझा 
सबसे जीता और अपने से हारा  

उसका साया है तू उसका दर्पन 
तेरे सीने में है उसकी धड़कन 
तेरी आँखों में उसका इशारा 

पाप क्या पुण्य है क्या ये भूला दे 
कर्म कर फ़ल की चिंता मिटा दे 
ये परीक्षा न होगी दोबारा


Tu Hi Sagar Hai Tu Hi Kinara Lyrics

Tu hi saagar hai tu hi kinaara 
Dhundhata hai tu kisaka sahaara 

Man men ulajha kabhi tan men ulajha 
Tu sada apane daaman men ulajha 
Sabase jita aur apane se haara  

Usaka saaya hai tu usaka darpan 
Tere sine men hai usaki dhadakan 
Teri ankhon men usaka ishaara 

Paap kya puny hai kya ye bhula de 
Karm kar fal ki chinta mita de 
Ye pariksha n hogi dobaara

Additional Information

गीतकार : कैफी आज़मी, गायक : सुलक्षणा पंडीत, संगीतकार : खय्याम, गीतसंग्रह/चित्रपट : संकल्प (१९७४) / Lyricist : Kaifi Azmi, Singer : Sulakshana Pandit , Music Director : Khayyam, Album/Movie : Sankalp (1974)

Share this song

Hindi Songs Lyrics Submitted By

Manjusha Sawant

November 24 2014

You may also like these pages:

geetmanjusha.com © 1999-2019 Manjusha Umesh | Privacy | Community Guidelines