Hindi Songs

Hindi Songs's Lyrics

Nazm Uljhi Hui Hai Seene Mein / नज़्म उलझी हुई है सीने में

नज़्म उलझी हुई है सीने में 
मिसरे अटके हुए हैं होंठो पर 
उड़ते फिरते हैं तितलियों की तरह 
लफ्ज़ कागज़ पे बैठते ही नहीं 

नज़्म उलझी हुई है सीने में 
कब से बैठा हुआ हूँ मैं जानम 
सादा कागज़ पे लिख के नाम तेरा 
बस तेरा नाम ही मुकम्मिल है
इससे बेहतर भी नज़्म क्या होगी


Nazm Uljhi Hui Hai Seene Mein Lyrics

Nazm ulajhi hui hai sine men 
Misare atake hue hain honthho par 
Udate firate hain titaliyon ki tarah 
Lafz kaagaz pe baithhate hi nahin 

Nazm ulajhi hui hai sine men 
Kab se baithha hua hun main jaanam 
Saada kaagaz pe likh ke naam tera 
Bas tera naam hi mukammil hai
Isase behatar bhi nazm kya hogi
Manjusha Sawant liked this

Additional Information

गीतकार : गुलज़ार , गायक : भूपिंदर, संगीतकार : भूपिंदर, गीतसंग्रह/चित्रपट : वो जो शायर था / Lyricist : Gulzar, Singer : Bhupinder, Music Director : Bhupinder, Album/Movie : Woh Jo Shair Tha

Share this song

Hindi Songs Lyrics Submitted By

Girish Mirani

November 16 2013

You may also like these pages:

geetmanjusha.com © 1999-2019 Manjusha Umesh | Privacy | Community Guidelines