Hindi Songs

Hindi Songs's Lyrics

Zihaal-E-Muskin Maqun Ba-Ranjish / ज़िहाल-ए-मस्कीं मकुन बा-रंजिश

ज़िहाल-ए-मस्कीं मकुन बा-रंजिश 
बहाल-ए-हिज्रा बेचारा दिल है
सुनाई देती है जिसकी धड़कन
तुम्हारा दिल या हमारा दिल है

वो आ के पहलू में ऐसे बैठे
कि शाम रंगीन हो गई है
ज़रा ज़रा सी खिली तबियत
ज़रा सी ग़मगीन हो गई है

अजीब है दिल के दर्द यारों
न हो तो मुश्किल है जीना इसका
जो हो तो हर दर्द एक हीरा
हर एक ग़म है नगीना इसका

कभी कभी शाम ऐसे ढलती है
जैसे घूँघट उतर रहा है
तुम्हारे सीने से उठता धुआँ
हमारे दिल से गुज़र रहा है

ये शर्म है, या हया है, क्या है
नज़र उठाते ही झुक गई है
तुम्हारी पलकों से गिर के शबनम
हमारी आँखों में रुक गई है
#MithunChakraborty #AnitaRaj #JPDutta

Zihaal-E-Muskin Maqun Ba-Ranjish Lyrics

Jihaal-e-maskin makun ba-rnjish 
Bahaal-e-hijra bechaara dil hai
Sunaai deti hai jisaki dhadkan
Tumhaara dil ya hamaara dil hai

Wo a ke pahalu men aise baithhe
Ki shaam rngin ho gi hai
Jra jra si khili tabiyat
Jra si gamagin ho gi hai

Ajib hai dil ke dard yaaron
N ho to mushkil hai jina isaka
Jo ho to har dard ek hira
Har ek gam hai nagina isaka

Kabhi kabhi shaam aise dhalati hai
Jaise ghunghat utar raha hai
Tumhaare sine se uthhata dhuan
Hamaare dil se gujr raha hai

Ye sharm hai, ya haya hai, kya hai
Najr uthhaate hi jhuk gi hai
Tumhaari palakon se gir ke shabanam
Hamaari ankhon men ruk gi hai

  
Unkown Person liked this
Umesh Gawade
Umesh Gawade
November 15 2012 Permalink
इस लाचार (मस्कीं) दिल को जब देखो (ज़िहाल), तो गुस्से से (बा-रंजिश) नहीं (मकुन)
इस बेचारे दिल को हाल ही में (ब-हाल) अपने महबूब से जुदाई (हिज्र) का गम मिला हैं
Unkown Person liked this

Additional Information

गीतकार : गुलज़ार, गायक : लता मंगेशकर - शब्बीर कुमार, संगीतकार : लक्ष्मीकांत प्यारेलाल, चित्रपट : गुलामी (१९८५) / Lyricist : Gulzar, Singer : Lata Mangeshkar - Shabbir Kumar, Music Director : Laxmikant Pyarelal, Movie : Ghulami (1985)

Hindi Songs Lyrics Submitted By

Umesh Gawade

Umesh Gawade

November 15 2012

You may also like these pages:

geetmanjusha.com © 1999-2020 Manjusha Umesh | Privacy | Community Guidelines