Hindi Songs

Hindi Songs's Lyrics

Hai Agar Dushman / है अगर दुश्मन ज़माना गम नहीं, गम नहीं

है अगर दुश्मन ज़माना ग़म नहीं, ग़म नहीं
कोई आये, कोई आये, कोई आये, कोई 
हम किसी से कम नहीं

क्या करे दिल की जलन को, इस मोहब्बत के चलन को
जो भी हो जाए के अब तो, सर से बांधा है कफ़न को
हम तो दीवाने दिलजले, जुल्म के साए में पले
डाल कर आँखों को तेरे रुखसारों पे
रोज ही चलते हैं हम तो अंगारों पे
आज हम जैसे जिगरवाले कहाँ
ज़ख्म खाया है तब हुए हैं जवाँ
तीर बन जाए दोस्तों की नज़र
या बने खंजर दुश्मनों की जुबान
     बैठे हैं तेरे दर पे तो कुछ कर के उठेंगे
     या तुझको ही ले जायेंगे या मर के उठेंगे
आज हम जैसे जिगरवाले कहाँ
ज़ख्म खाया है तब हुए हैं जवाँ
आज तो दुनिया नहीं, या हम नहीं

लो ज़रा अपनी खबर भी
एक नज़र देखो इधर भी
हुस्नवाले ही नहीं हम
दिल भी रखते हैं जिगर भी
झूम के रखा जो कदम
रह गई जंजीर-ए-सितम
कैसे रुक जायेंगे, हम किसी चिलमन से
जुल्फों को बांधा है, यार के दामन से
इश्क जब दुनिया का निशाना बना
हुस्न भी घबरा के दीवाना बना
मिल गए रंग-ए-हीना, खून-ए-जिगर
तब कही रंगी ये फ़साना बना
     भेस मजनू का लिया मैंने जो लैला होकर
     रंग लाया है दुपट्टा मेरा मैला होकर
इश्क जब दुनिया का निशाना बना
हुस्न भी घबरा के दीवाना बना
ये नहीं समझों के हम में दम नहीं, दम नहीं
#RishiKapoor #ZeenatAman #NasirHussain #BollywoodQawwali #Qawwali


Hai Agar Dushman Lyrics

Hai agar dushman jmaana gam nahin, gam nahin
Koi aye, koi aye, koi aye, koi 
Ham kisi se kam nahin

Kya kare dil ki jalan ko, is mohabbat ke chalan ko
Jo bhi ho jaae ke ab to, sar se baandha hai kafn ko
Ham to diwaane dilajale, julm ke saae men pale
Daal kar ankhon ko tere rukhasaaron pe
Roj hi chalate hain ham to angaaron pe
Aj ham jaise jigarawaale kahaan
Zakhm khaaya hai tab hue hain jawaan
Tir ban jaae doston ki nazar
Ya bane khnjar dushmanon ki jubaan
     baithhe hain tere dar pe to kuchh kar ke uthhenge
     ya tujhako hi le jaayenge ya mar ke uthhenge
Aj ham jaise jigarawaale kahaan
Zakhm khaaya hai tab hue hain jawaan
Aj to duniya nahin, ya ham nahin

Lo jra apani khabar bhi
Ek nazar dekho idhar bhi
Husnawaale hi nahin ham
Dil bhi rakhate hain jigar bhi
Jhum ke rakha jo kadam
Rah gi jnjir-e-sitam
Kaise ruk jaayenge, ham kisi chilaman se
Julfon ko baandha hai, yaar ke daaman se
Ishk jab duniya ka nishaana bana
Husn bhi ghabara ke diwaana bana
Mil ge rng-e-hina, khun-e-jigar
Tab kahi rngi ye fsaana bana
     bhes majanu ka liya mainne jo laila hokar
     rng laaya hai dupatta mera maila hokar
Ishk jab duniya ka nishaana bana
Husn bhi ghabara ke diwaana bana
Ye nahin samajhon ke ham men dam nahin, dam nahin

  
 

Additional Information

गीतकार : मजरूह सुलतानपुरी, गायक : आशा - रफी, संगीतकार : राहुल देव बर्मन, चित्रपट : हम किसीसे कम नहीं (१९७७) / Lyricist : Majrooh Sultanpuri, Singer : Asha Bhosle - Mohammad Rafi, Music Director : Rahul Dev Burman, Movie : Hum Kisise Kum Naheen (1977)

Share this song

Hindi Songs Lyrics Submitted By

Administrator

Administrator

June 10 2012

You may also like these pages:

geetmanjusha.com © 1999-2019 Manjusha Umesh | Privacy | Community Guidelines