Hindi Songs

Hindi Songs's Lyrics

Pehchan To Thi / पहचान तो थी, पहचाना नहीं

पहचान तो थी, पहचाना नहीं
मैंने अपने आपको जाना नहीं

जब धूप बरसती है सर पे
तो पाँव में छाँव खिलती है
मैं भूल गई थी छाँव अगर मिलती है, तो धूप में मिलती है
इस धूप और छाँव के खेल में क्यों, जीने का इशारा समझा नहीं

मैं जागी रही कुछ सपनों में
और जागी हुई भी सोई रही
जाने किन भूल भुलय्या में, कुछ भटकी रही कुछ खोई रही
जीने के लिए मैं मरती रही, जीने का इशारा समझा नहीं
#SharmilaTagore #Sarika #SanjeevKumar #BasuBhattacharya


Pehchan To Thi Lyrics

Pahachaan to thi, pahachaana nahin
Mainne apane apako jaana nahin

Jab dhup barasati hai sar pe
To paanw men chhaanw khilati hai
Main bhul gi thi chhaanw agar milati hai, to dhup men milati hai
Is dhup aur chhaanw ke khel men kyon, jine ka ishaara samajha nahin

Main jaagi rahi kuchh sapanon men
Aur jaagi hui bhi soi rahi
Jaane kin bhul bhulayya men, kuchh bhataki rahi kuchh khoi rahi
Jine ke lie main marati rahi, jine ka ishaara samajha nahin

   

Additional Information

गीतकार : गुलज़ार, गायक : चन्द्राणी मुखर्जी, संगीतकार : कनू रॉय, चित्रपट : गृहप्रवेश (१९७९) / Lyricist : Gulzar, Singer : Chandrani Mukherjee, Music Director : Kanu Roy, Movie : Griha Pravesh (1979)

Share this song

Hindi Songs Lyrics Submitted By

Administrator

Administrator

June 10 2012

You may also like these pages:

geetmanjusha.com © 1999-2019 Manjusha Umesh | Privacy | Community Guidelines