Hindi Songs

Hindi Songs's Lyrics

Zinda Hoon Is Tarah Ki / जिंदा हूँ इस तरह के गम-ए-ज़िन्दगी नहीं

ज़िंदा हूँ इस तरह की ग़म-ए-ज़िंदगी नहीं
जलता हुआ दिया हूँ मगर रोशनी नहीं

वो मुद्दतें हुईं हैं किसीसे जुदा हुये
लेकिन ये दिल की आग अभी तक बुझी नहीं

आने को आ चुका था किनारा भी सामने
खुद उस के पास ही मेरी नैय्या गई नहीं

होंठों के पास आये हँसी, क्या मजाल है
दिल का मुआमला है कोई दिल्लगी नहीं

ये चाँद ये हवा ये फ़ज़ा, सब हैं 
जो तू नहीं तो इन में कोई दिलकशी नहीं

Zinda Hoon Is Tarah Ki Lyrics

Jinda hun is tarah ki gm-e-jindagi nahin
Jalata hua diya hun magar roshani nahin

Wo muddaten huin hain kisise juda huye
Lekin ye dil ki ag abhi tak bujhi nahin

Ane ko a chuka tha kinaara bhi saamane
Khud us ke paas hi meri naiyya gi nahin

Honthhon ke paas aye hnsi, kya majaal hai
Dil ka muamala hai koi dillagi nahin

Ye chaand ye hawa ye fja, sab hain 
Jo tu nahin to in men koi dilakashi nahin

Additional Information

गीतकार : बेहज़ाद लखनवी , गायक : मुकेश, संगीतकार : राम गांगुली, गीतसंग्रह/चित्रपट : आग (१९४८) / Lyricist : Behzad Lakhnavi, Singer : Mukesh, Music Director : Ram Ganguli, Album/Movie : Aag (1948)

Hindi Songs Lyrics Submitted By

Administrator

Administrator

June 10 2012

geetmanjusha.com © 1999-2018 Manjusha Umesh | Privacy | Community Guidelines