Vivekanand Nayak

Vivekanand Nayak's Lyrics

एक लड़की भीगी भागी सी / ek ladki bheegi bhaagi si

एक लड़की भीगी भागी सी सोती रातों में जागी सी मिली इक अजनबी से , कोई आगे न पीछे तुम ही कहो ये कोई बात हैं दिल ही दिल में जलि जाती है बिगड़ी बिगड़ी चली आती है - २ झुन्जलाती हुई , बलखाती हुई सावन की सूनी रात में डग मग डग मग लहकी लहकी भूली भटकी , बहकी बहकी - २ मचली मचली घर सी निकली पगली सी काली रात में तन भीगा हैं सर गीला है उसका कोई पेंच भी ढीला है - २ तनती झुकती ,चलती रुकती निकली अँधेरी रात में
Yogesh liked this

Additional Information

गीतकार : -,संगीतकार : - ,गायक : - स.ड.बर्मन, चलती का नाम गाडी : -/ Lyricist : -, S.D.Burman : -, Kishore Kumar : -, Movie : -Chalti Ka Naam Gaadi

Share this song

Vivekanand Nayak Lyrics Submitted By

Vivekanand Nayak

Vivekanand Nayak

February 10 2013

geetmanjusha.com © 1999-2019 Manjusha Umesh | Privacy | Community Guidelines