Hindi Songs

Hindi Songs's Lyrics

Ye Zulf Agar Khul Ke Bikhar / ये जुल्फ अगर खूल के बिखर जाए तो अच्छा

ये ज़ुल्फ़ अगर खुल के बिखर जाए तो अच्छा 
इस रात की तकदीर सँवर जाए तो अच्छा 

जिस तरह से थोड़ी सी तेरे साथ कटी है
बाकी भी उसी तरह गुज़र जाए तो अच्छा 

दुनिया के निगाहों में भला क्या है, बुरा क्या
ये बोझ अगर दिल से उतर जाए तो अच्छा 

वैसे तो तुम ही ने मुझे बर्बाद किया है
इल्ज़ाम किसी और के सर जाए तो अच्छा 
#RajKumar #Helen


Ye Zulf Agar Khul Ke Bikhar Lyrics

Ye zulf agar khul ke bikhar jaae to achchha 
Is raat ki takadir snwar jaae to achchha 

Jis tarah se thodi si tere saath kati hai
Baaki bhi usi tarah gujr jaae to achchha 

Duniya ke nigaahon men bhala kya hai, bura kya
Ye bojh agar dil se utar jaae to achchha 

Waise to tum hi ne mujhe barbaad kiya hai
Iljaam kisi aur ke sar jaae to achchha 

 

Additional Information

गीतकार : साहिर लुधियानवी, गायक : मोहम्मद रफी, संगीतकार : रवी, चित्रपट : काजल (१९६५) / Lyricist : Sahir Ludhianvi, Singer : Mohammad Rafi, Music Director : Ravi, Movie : Kajal (1965)

Share this song

Hindi Songs Lyrics Submitted By

Administrator

Administrator

June 10 2012

You may also like these pages:

geetmanjusha.com © 1999-2019 Manjusha Umesh | Privacy | Community Guidelines