संगीतकार
- जयदेव
- खय्याम
- ओ. पी. नय्यर

जां निसार अख्तर - Ja Nisaar Akhtar



 आ जा रे, आ जा रे ओ मेरे दिलबर आ जा
 जां निसार अख्तर, खय्याम, नूरी (1979)

 आप यूँ फासलों से गुजरते रहे, दिल पे कदमों की आवाज आती रही
 जां निसार अख्तर, खय्याम, शंकर हुसेन (1977)

 आँखों ही आँखों में इशारा हो गया
 जां निसार अख्तर, ओ. पी. नय्यर, सी. आय. डी. (1956)

 ऐ दिल-ए-नादां
 जां निसार अख्तर, खय्याम, रझिया सुलतान (1983)

 चोरी चोरी कोई आए
 जां निसार अख्तर, खय्याम, नूरी (1979)

 ये दिल और उनकी निगाहों के साये
 जां निसार अख्तर, जयदेव, प्रेम परबत (1973)