Manjusha Sawant's Notes

Manjusha Sawant

August 23 2013
इन्सान बुज़दिल इतना हैं की ख़्वाब में भी डर जाता हैं
और बहादुर इतना हैं की अपने रब से भी नहीं डरता

geetmanjusha.com © 1999-2017 Manjusha Umesh | Privacy | Community Guidelines