Apni Marzi Se, Kahan Apne Safar / अपनी मर्ज़ी से कहाँ अपने सफ़र के हम हैं - Hindi Songs's Lyrics
Hindi Songs

Hindi Songs's Lyrics

Apni Marzi Se, Kahan Apne Safar / अपनी मर्ज़ी से कहाँ अपने सफ़र के हम हैं

अपनी मर्ज़ी से कहाँ अपने सफ़र के हम हैं
रुख़ हवाओंका जिधर का है उधर के हम हैं

पहले हर चीज थी अपनी मगर अब लगता है
अपने ही घर में किसी दूसरे घर के हम हैं

वक़्त के साथ है मिट्टी का सफ़र सदियोंसे
किसको मालूम, कहाँ के हैं, किधर के हम हैं

चलते रहते हैं की चलना है मुसाफिर का नसीब
सोचते रहते हैं किस राहगुजर के हम हैं
Apani marji se kahaaan apane safr ke ham hain
Rukh hawaaonkaa jidhar kaa hai udhar ke ham hain

Pahale har chij thi apani magar ab lagataa hai
Apane hi ghar men kisi dusare ghar ke ham hain

Wakt ke saath hai mitti kaa safr sadiyonse
Kisako maalum, kahaaan ke hain, kidhar ke ham hain

Chalate rahate hain ki chalanaa hai musaafir kaa nasib
Sochate rahate hain kis raahagujar ke ham hain
Unkown Person liked this

Song Videos

Apni marzi se kahan apne safar ke hum hain (Jagjit Singh)Apni marzi se kahan apne safar ke hum hain (Jagjit Singh)
Apni marzi se kahan apne safar ke hum hain (Jagjit Singh)ruka hawan ka jidar ka ha udar ka hum hai......

Additional Information

गीतकार : निदा फ़ाज़ली, गायक : जगजित सिंग, संगीतकार : -, गीत संग्रह/चित्रपट : - / Lyricist : Nida Fazli, Singer : Jagjit Singh, Music Director : -, Album/Movie : -

Share this song

Hindi Songs Lyrics Submitted By

Manjusha Sawant

November 30 2012

You may also like these pages:

geetmanjusha.com © 1999-2016 Manjusha Umesh | Privacy | Community Guidelines